Breaking News

आज का आध्यात्मिक सुविचार ***

Jdnews Vision***

एक आध्यात्मिक साधक के लिए पवित्रता क्या है? भगवान आज हमें कभी न भूलने वाले उदाहरणों से प्रेमपूर्वक प्रेरित करते हैं ताकि हम इसे कभी न भूलें।
आंतरिक और बाह्य दोनों प्रकार की पवित्रता होनी चाहिए। शारीरिक शुद्धता का संबंध भौतिक से है। इसमें स्नान करना, साफ कपड़े पहनना, शुद्ध भोजन करना आदि जैसे सफाई कार्य शामिल हैं। लेकिन आंतरिक शुद्धता के बिना केवल बाहरी सफाई का कोई महत्व नहीं है। विद्वान से लेकर सामान्य व्यक्ति तक सभी को केवल बाहरी स्वच्छता की ही चिंता रहती है, भीतर की हृदय की पवित्रता की नहीं। सामग्री कितनी भी शुद्ध क्यों न हो, यदि जिस बर्तन में उन्हें पकाया जाता है वह साफ नहीं है, तो भोजन खराब हो जाएगा। एक आदमी के लिए, उसका दिल बर्तन है, और उसे यह देखना चाहिए कि इसे शुद्ध और बेदाग रखा जाए। हृदय की शुद्धि के लिए प्रत्येक व्यक्ति को नि:स्वार्थ सेवा करनी चाहिए। निःस्वार्थ सेवा पर ध्यान केंद्रित करके मन को प्रदूषित करने वाले राग और द्वेष को त्याग देना चाहिए। हृदय शुद्ध होने पर ही निःस्वार्थ सेवा की जा सकती है। इसलिए एक अच्छे भक्त के लिए शारीरिक और मानसिक शुद्धता दोनों आवश्यक हैं।
– भगवान श्री सत्य साईं बाबा जी द्वारा दिव्य प्रवचन

About admin

Check Also

रुद्र नारी उत्थान सेवा समिति के कार्यक्रम में प्रतिभागी हुई सम्मानित*

जेडी न्यूज़ विज़न*** रिपोट संजय कसौधन सुलतानपुर:- रुद्र नारी उत्थान सेवा समिति* के तत्वावधान में …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *